Tale Of Rising Rani has won awards in 40 Film Festivals around

Film TALE OF RISING RANI has won awards in 40 Film Festival and gets India proud Globally.

Taking vision of our Honourable Prime Minister Shri Narendra Modiji ahead of (Beti Bachao Beti Padhao). Tale of Rising Rani has been Produced under the banner of Stripes Entertainment LLP by Ashok Kumar Sharma & has been Written, Directed & Edited by Prakash Saini.

The story revolves around a girl child and her fight with the system for (Beti Bachao Beti Padhao) and to get justice for her cousin sister the story is set in the backdrop of rural India where these incidents go unnoticed and also the girl child does not get justice, based on the true incidents & the unjust panchayat system thr story is about how the lives of a innocent girl gets shattered in life, the characters in the film are played by the real locals. With the courage finds a way very old shackles from generations.

The film has officially been screened in various festivals and is the winner of major festivals like
Indie Meme film festival (Austin),
53rd Worldfest Houston,
London Independent Film Awards
World film carnival (singapore)
Oniros film awards ( italy)
Semi Fanalist-
London Greek Film Festival
Los Angeles film festival awards
Official Selection –
New york city independent film festival
Columbia film festival of the arts
Reverside International film festival and many more…

The film has won loads accolades in festival circuit all over the world making India proud globally with a simple narrative with real characters. In real conditions .

“टेल ऑफ राइजिंग रानी” ने दुनियाभर में किया भारत का नाम रोशन

हाथरस और मथुरा के कलाकारों ने भी दमदारी से निभाया है किरदार

मुम्बई। देश विदेश के फिल्म समारोहों में आठ पुरस्कार जीतकर फिल्म ‘टेल आफ राइजिंग रानी’ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ अभियान को आगे बढ़ाते हुए पूरी दुनिया में भारत का गौरव बढ़ाया है। उल्लेखनीय है कि प्रकाश सैनी द्वारा लिखित निर्देशित और संपादित फिल्म ‘टेल आफ राइजिंग रानी’ का निर्माण अशोक कुमार शर्मा द्वारा स्ट्राइप्स एंटरटेनमेंट एलएलपी के बैनर तले किया गया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सोच को आगे ले जाने वाली इस फिल्म की कहानी एक बालिका के इर्द-गिर्द घूमती है। जो अपनी चचेरी बहन को न्याय दिलााने के लिए ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ सोच के तहत पूरी सिस्टम के साथ भिड़ जाती है। इसकी पृष्ठभूमि में ग्रामीण भारत है। जहां इन घटनाओं पर किसी का ध्यान नहीं जाता है। जिससे बच्चियों को न्याय नहीं मिल पाता है। सच्ची घटनाओं और अन्यायपूर्ण पंचायत प्रणाली के आधार पर विकसित इस फिल्म में दिखाया गया है कि समाज की दकियानूसी सोच और मा​नसिकता के कारण कैसे एक मासूम लड़की की जिंदगी बिखर जाती है। फिल्म की खासियत यह है कि इसमें प्रमुख भूमिकाएं वास्तवविक लोगों ने ही निभाई है। फिल्म को आधिकारिक तौर पर विभिन्न फिल्मोत्सवों में प्रदर्शित किया गया है। और इस फिल्म में इंडी मेमे फिल्म फेस्टिवल ऑस्टिन 53वें वर्ल्डफ़ेस्ट ह्यूस्टन लंदन इंडिपेंडेंट फिल्म अवार्ड्स वर्ल्ड फिल्म कार्निवल सिंगापुर ओनिरोस फिल्म अवार्ड्स इटली में पुरस्कार विजेता बनी। वहीं लंदन ग्रीक फिल्म फेस्टिवल लॉस एंजेलिस फिल्म फेस्टिवल अवार्ड्स में सेमी फाइनालिस्ट रही। इसके अलावा न्यूयॉर्क शहर स्वतंत्र फिल्म समारोह, कोलंबिया फिल्म कला महोत्सव इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में भी इसका आधिकारिक चयन हुआ। कुल मिलाकर इस फिल्म ने दुनियाभर के फेस्टिवल सर्किट में काफी प्रशंसा अर्जित की है। “टेल ऑफ राइजिंग रानी” फ़िल्म की पूरी शूटिंग मथुरा और हाथरस में हुई है। इस फ़िल्म में बॉलीवुड के एक्टर अनिल यादव भी हैं।जिन्होंने तिरंगा, घातक और विभिन्न फ़िल्मों में अभिनय किया है। “टेल ऑफ राइजिंग रानी” फ़िल्म में अपना बेहतरीन किरदार निभाया है। मथुरा, हाथरस के कलाकार ने भी अपना इस फ़िल्म में दमदारी से किरदार निभाया है। इस फ़िल्म में कई बच्चों ने काम किया है। मथुरा, हाथरस, मुम्बई के महेश सैनी, स्तुति अग्रवाल, पारुल, गौरव शर्मा, सचिन, सुनील, पंकज, चीची जैसे कलाकारों की जितनी भी तारीफ की जाए कम है। इस फ़िल्म के कलाकार मथुरा हाथरस के हैं जिन्होंने इस फ़िल्म में अपना बेहतरीन किरदार निभाया है और अपने शहर का नाम रोशन किया है। जिसने भारत का सिर विश्व स्तर पर गर्व से ऊंचा किया है।

Team Screengrafia

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »